Saturday, February 11, 2012

अपार सिंधु


अपार सिंधु
अनिमिष निहारे
नवेली निशा।

-स्वाति भालोटिया

No comments: