Sunday, September 24, 2017

अंक 28

झलक रहा
दीये की रोशनी में
माँ का वदन

-डा० सूरजमणि स्टेला कुजूर

No comments: